जैसा कि हम जान चुके हैं। कि कुंडली में 12 घर होते हैं और प्रत्येक घर को अलग-अलग कार्य क्षेत्रों में बांटा गया है। महर्षि पाराशर जी के मतानुसार आज हम कुंडली के लग्न आदि द्वादश भाव की परिकल्पना को… Continue Reading…